1097319 narendra modi imc


प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने आज भारत में हाई-स्पीड 5G सेवाओं की शुरुआत की। 5जी इंटरनेट की शुरुआत मोबाइल फोन पर अल्ट्रा-हाई-स्पीड इंटरनेट के युग में प्रवेश करने के अलावा स्वास्थ्य सेवा, शिक्षा, विनिर्माण और निर्माण जैसे क्षेत्रों को बदलने का मार्ग प्रशस्त करती है। प्रधानमंत्री ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस 2022 का भी उद्घाटन किया।

पीएम मोदी ने IMC 2022 सम्मेलन में चुनिंदा शहरों में 5G सेवाओं की शुरुआत की और दूरसंचार नेताओं ने अगले कुछ वर्षों में पूरे देश को 5G के साथ कवर करने की योजना की घोषणा की। अल्ट्रा-हाई-स्पीड इंटरनेट का समर्थन करने में सक्षम, पांचवीं पीढ़ी या 5G सेवा से भारतीय समाज के लिए एक परिवर्तनकारी शक्ति के रूप में सेवा करते हुए नए आर्थिक अवसरों और सामाजिक लाभों को प्राप्त करने की उम्मीद है।

पेश हैं पीएम मोदी के भाषण की मुख्य बातें:

*आज देश की ओर से देश के दूरसंचार उद्योग की ओर से 130 करोड़ भारतीयों को 5जी के रूप में एक शानदार तोहफा मिल रहा है। 5G देश के दरवाजे पर एक नए युग की दस्तक है। 5G अवसरों के अनंत आकाश की शुरुआत है।

* नया भारत केवल प्रौद्योगिकी का उपभोक्ता नहीं रहेगा, बल्कि भारत उस प्रौद्योगिकी के विकास और कार्यान्वयन में सक्रिय भूमिका निभाएगा। भारत भविष्य की वायरलेस तकनीक को डिजाइन करने और उससे जुड़ी मैन्युफैक्चरिंग में बड़ी भूमिका निभाएगा।

* 2जी, 3जी, 4जी के समय भारत टेक्नोलॉजी के लिए दूसरे देशों पर निर्भर था। लेकिन 5जी के साथ भारत ने एक नया इतिहास रच दिया है। 5जी के साथ भारत पहली बार दूरसंचार प्रौद्योगिकी में वैश्विक मानक स्थापित कर रहा है।

यह भी पढ़ें: उत्सव बोनस! एलपीजी सिलेंडर के दाम घटाए गए; अपने शहर के लिए नई दरें देखें

*डिजिटल इंडिया की बात करें तो कुछ लोग सोचते हैं कि यह सिर्फ एक सरकारी योजना है। लेकिन डिजिटल इंडिया सिर्फ एक नाम नहीं है, यह देश के विकास का एक बड़ा विजन है। इस विजन का लक्ष्य उस तकनीक को आम लोगों तक पहुंचाना है, जो लोगों के लिए काम करती है, लोगों के साथ काम करती है

* हमने एक साथ चार दिशाओं में 4 स्तंभों पर ध्यान केंद्रित किया। सबसे पहले, डिवाइस की कीमत है। दूसरा, डिजिटल कनेक्टिविटी है। तीसरा, डेटा की लागत है। चौथा, और सबसे महत्वपूर्ण, ‘डिजिटल फर्स्ट’ का विचार:

*2014 में जीरो मोबाइल फोन निर्यात करने से लेकर आज हम हजारों करोड़ रुपये के मोबाइल फोन निर्यातक देश बन गए हैं। स्वाभाविक रूप से, इन सभी प्रयासों का डिवाइस की लागत पर प्रभाव पड़ा है। अब हमें कम कीमत में स्मार्टफोन में ज्यादा फीचर्स मिलने लगे हैं।

* जैसे सरकार ने हर घर में बिजली पहुंचाने का अभियान चलाया या हर घर जल अभियान के माध्यम से या उज्ज्वला योजना के माध्यम से सभी को स्वच्छ पानी उपलब्ध कराने के मिशन पर काम किया, वैसे ही गैस सिलेंडर गरीब से गरीब व्यक्ति तक पहुंचाया गया। इसी तरह हमारी सरकार सभी के लिए इंटरनेट के लक्ष्य पर काम कर रही है। एक समय था जब मुट्ठी भर कुलीन वर्ग के लोग गरीब लोगों की क्षमता पर संदेह करते थे। उन्हें शक था कि गरीब लोग डिजिटल का मतलब भी नहीं समझेंगे। लेकिन देश के आम आदमी की समझ में, उसकी अंतरात्मा में, उसके जिज्ञासु मन में मुझे हमेशा से विश्वास रहा है।

* सरकार ने खुद आगे बढ़कर डिजिटल भुगतान का रास्ता आसान कर दिया। सरकार ने खुद ऐप के जरिए नागरिक केंद्रित डिलीवरी सेवा को बढ़ावा दिया। चाहे किसानों की बात हो या छोटे दुकानदारों की, हमने उन्हें ऐप के माध्यम से उनकी दैनिक जरूरतों को पूरा करने का एक तरीका दिया है:

*आज हमारे पास चाहे छोटे व्यापारी हों, छोटे उद्यमी हों, स्थानीय कलाकार हों, शिल्पकार हों, डिजिटल इंडिया ने सबको एक मंच, एक बाजार दिया है। आज आप किसी स्थानीय बाजार या सब्जी मंडी में जाएं और देखें, यहां तक ​​कि एक छोटा रेहड़ी-पटरी वाला भी आपसे कहेगा कि वे ‘यूपीआई’ स्वीकार करते हैं।

* हमारी सरकार के प्रयासों से भारत में डेटा की लागत बहुत कम बनी हुई है। यह अलग बात है कि हमने इसे लेकर कोई हंगामा नहीं किया, बड़े विज्ञापन नहीं दिए। हमने इस बात पर ध्यान केंद्रित किया कि देश के लोगों की सुविधा को कैसे बढ़ाया जाए और जीवन की सुगमता को कैसे बढ़ाया जाए।

*आज का ऐतिहासिक अवसर भारत के लिए नई प्रेरणा लेकर आया है। भारत के विकास को अभूतपूर्व गति देने के लिए हमें इस 5G तकनीक का उपयोग करना चाहिए।





Source link

Leave a comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *